Type Here to Get Search Results !

Lic News :- Adani के साथ LIC की मीटिंग, जवाब सुनकर खुश हुई बीमा कंपनी.

LIC के अधिकारियों ने अडानी ग्रुप के शीर्ष मैनेजमेंट से मुलाकात की है और वह बैठक के नतीजे से खुश है. LIC के चेयरपर्सन एम आर कुमार ने रविवार को यह बयान नई दिल्ली में 22वीं ग्लोबल कॉन्फ्रेंस ऑफ Actuaries को संबोधित करते हुए दिया है.
LIC के अधिकारियों ने अडानी ग्रुप (Adani) के शीर्ष मैनेजमेंट से मुलाकात की है और वह बैठक के नतीजे से खुश है. LIC के चेयरपर्सन एम आर कुमार ने रविवार को यह बयान नई दिल्ली में 22वीं ग्लोबल कॉन्फ्रेंस ऑफ Actuaries को संबोधित करते हुए दिया है. कुमार ने कहा कि मैं सिर्फ यह पुष्टि कर सकता हूं कि विभाग को लेकर बातचीत हुई है. उन्होंने आगे कहा कि लेकिन आप अभी इस बारे में कुछ बता सकते हैं. उन्होंने आगे कहा कि लेकिन, हमारी बैठक हुई है. और हम इस बैठक को लेकर बहुत खुश हैं

बीमा कंपनी ने शेयरों में उतार-चढ़ाव पर मांगी थी सफाई

पिछले महीने अर्निंग कॉन्फ्रेंस में कुमार ने कहा था कि LIC का प्रबंधन जल्द अडानी ग्रुप के शीर्ष प्रबंधन के साथ संपर्क करेगा और अडानी के शेयरों में भारी उतार-चढ़ाव के बीच सफाई मांगेगा. पोर्ट से लेकर पावर के कारोबार में लगा समूह काफी समय से संकट में फंसा है.

दरअसल, अमेरिका में आधारित शॉर्ट सेलिंग कंपनी हिंडनबर्ग रिसर्च ने गौतम अडानी की अगुवाई वाले कारोबारी समूह पर शेयर बाजार में हेरफेर और अकाउंटिंग से जुड़े फ्रॉड का आरोप लगाया था.

इस रिपोर्ट के सार्वजनिक होने के बाद से, LIC के अडानी ग्रुप की कंपनियों में निवेश पर सभी की कड़ी निगरानी है. बीमा कंपनी ने अडानी ग्रुप की 10 में से सात लिस्टेड कंपनियों में निवेश कर रखा है. उसकी अडानी ग्रीन एनर्जी में 1.28 फीसदी, अडानी पोर्ट्स एंड SEZ में 9.14 फीसदी हिस्सेदारी मौजूद है.

क्या है शेयरों की मौजूदा हालत?

पिछले एक महीने में, अडानी पोर्ट्स के शेयरों में 25.36 फीसदी की तेजी देखी गई है. शुक्रवार को, अडानी पोर्ट्स के शेयर करीब 10 फीसदी के उछाल के साथ 684.35 रुपये पर पहुंच गए थे. जबकि, अडानी ग्रीन एनर्जी 5 फीसदी के उछाल के साथ 562 रुपये पर बंद हुआ था. 27 जनवरी को, LIC ने खुलासा किया था कि उसके निवेश की वैल्यू 56,142 करोड़ रुपये पर मौजूद है. अगर समान वैल्यू को दिसंबर के शेयरहोल्डिंग पैटर्न के मुताबिक कैलकुलेट करते हैं, तो यह 62,550 करोड़ रुपये होता है. इसमें 6,408 करोड़ रुपये या 10 फीसदी से थोड़े ज्यादा का अंतर है.

आपको बता दें कि अडानी की दौलत हाल के सालों में तेजी से बढ़ी थी. रिपोर्ट आने के बाद उन्होंने अप्रत्याशित रूप से अपने 20,000 करोड़ रुपये के फॉलो-ऑन पब्लिक ऑफर (एफपीओ) को वापस लेने की घोषणा की थी, जो एक दिन पहले फुली सब्सक्राइब हो गया था.

Top Post Ad

Below Post Ad

Ads