Type Here to Get Search Results !

नैनो यूरिया, बॉयो फर्टिलाइजर, वर्मी कम्पोस्ट का उपयोग कराने को लेकर कृषकों के बीच चलाएं अभियान : जिलाधिकारी।

कृषकों को स्वॉयल टेस्टिंग अनिवार्य रूप से कराने तथा इसी के अनुरूप उर्वरक आदि के उपयोग करने हेतु करें जागरूक एवं प्रेरित।


उर्वरक की कालाबाजारी एवं अन्य गड़बड़ी करने वालों के विरूद्ध करें नियमानुकूल सख्त कार्रवाई।


जिलाधिकारी की अध्यक्षता में जिला उर्वरक निगरानी समिति की बैठक सम्पन्न।


उर्वरक की कालाबाजारी को लेकर खरीफ मौसम में 16 विक्रेताओं की अनुज्ञप्ति की गयी निलंबित तथा रबी मौसम में अबतक 02 विक्रेताओं की अनुज्ञप्ति निलंबित।


जिलाधिकारी, श्री कुंदन कुमार की अध्यक्षता में आज समाहरणालय सभाकक्ष में जिला उर्वरक निगरानी समिति की बैठक सम्पन्न हुयी। इस अवसर पर माननीय विधायक, चनपटिया, श्री उमाकांत सिंह, माननीय विधान पार्षद, श्री सौरभ कुमार, अन्य माननीय जनप्रतिनिधिगण के प्रतिनिधि, उप विकास आयुक्त, श्री अनिल कुमार, अपर समाहर्ता, श्री राजीव कुमार सिंह, एसडीएम, बेतिया, श्री विनोद कुमार, वरीय उप समाहर्ता, श्री रवि प्रकाश, जिला सहकारिता पदाधिकारी सहित क्षेत्रीय प्रबंधक, इफको आदि उपस्थित रहे।



जिला उर्वरक निगरानी समिति की बैठक में जिले में विभिन्न उर्वरकों की उपलब्धता, खपत एवं आवश्यकता आदि पर विचार-विमर्श हुआ। माननीय विधायक, विधान पार्षद एवं जनप्रतिनिधिगण के प्रतिनिधियों द्वारा उर्वरक से संबंधित सुझाव दिये गये।


जिला कृषि पदाधिकारी द्वारा रबी 2022-23 में उर्वरकों की आवश्यकता एवं उपलब्धता से संबंधित विस्तृत जानकारी प्रदान की गयी। उन्होंने बताया कि वर्तमान में जिले में 5574.718 एमटी यूरिया, 4899.551 एमटी डीएपी, 3376.191 एमटी एमओपी, 6943.425 एमटी एनपीके तथा 3525.675 एमटी एसएसपी की उपलब्धता है।


उन्होंने बताया कि खरीफ मौसम 2022 में उर्वरक की कालाबाजारी को लेकर लगातार 411 छापेमारी की गयी, जिसमें 49 मामलों में अनियमितता पायी गयी। इस दौरान 16 उर्वरक विक्रेताओं की अनुज्ञप्ति निलंबित कर दी गयी। साथ ही रबी मौसम में अबतक 45 छापेमारी की गयी है। इस दौरान 02 मामलों में अनियमितता पायी गयी है तथा दोनों विक्रेताओं की अनुज्ञप्ति को निलंबित कर दिया गया है।


उन्होंने बताया कि पश्चिम चम्पारण जिले में वर्तमान में थोक उर्वरक अनुज्ञप्तिधारियों की संख्या-31, खुदरा उर्वरक अनुज्ञप्तिधारियों की संख्या-805, पैक्स अनुज्ञप्तिधारियों की संख्या-150, आइएफडीसी अनुज्ञप्तिधारियों की संख्या-14, इफको ई-बाजार अनुज्ञप्तिधारियों की संख्या-04, बिस्कोमान अनुज्ञप्तिधारियों की संख्या-04 एवं स्वावलंबी समूह अनुज्ञप्तिधारियों की संख्या-25 है।


उन्होंने बताया कि 22 नवंबर तक यूरिया की बड़ी खेप जिले को उपलब्ध हो जायेगी। जिसमें इफको कंपनी का 2650 एमटी, इंडोरामा कंपनी का 1500 एमटी, डॉ0 मैट्रिक्स का 2450 एमटी यूरिया शामिल है।  


जिलाधिकारी द्वारा जिला कृषि पदाधिकारी को निदेश दिया गया कि उर्वरक ससमय पर्याप्त मात्रा में जिले को उपलब्ध हो इसे सुनिश्चित किया जाय। साथ ही कृषकों को उचित मूल्य पर उर्वरक मिले, इसे भी सुनिश्चित किया जाय। इस हेतु नियमित रूप से उर्वरक प्रतिष्ठानों आदि पर छापेमारी सुनिश्चित की जाय तथा गहनता से जांच की जाय। गड़बड़ी करने वालों के विरूद्ध नियमानुकूल सख्त कार्रवाई सुनिश्चित की जाय।


जिलाधिकारी ने कहा कि कृषकों को नैनो यूरिया, बॉयो फर्टिलाइजर, वर्मी कम्पोस्ट आदि के उपयोग हेतु जागरूक एवं प्रेरित करने हेतु समूचे जिले में अभियान चलाया जाय। साथ ही कृषकों को स्वायल टेस्टिंग अनिवार्य रूप से कराने तथा इसी के अनुरूप उर्वरक आदि का प्रयोग करने को भी जागरूक एवं प्रेरित किया जाय।



जिला कृषि पदाधिकारी द्वारा बताया गया कि 15 नवंबर को जिले के प्रत्येक पंचायत में किसान चौपाल का आयोजन कराया जा रहा है। नैनो यूरिया, बॉयो फर्टिलाइजर, बर्मी कम्पोस्ट सहित किसानों के लिए लाभकारी अन्य विषयों से उन्हें अवगत कराया जायेगा।

Join Social Network Groups

Join Telegram Group

Facebook

WhatsApp

Twitter

Instagram

YouTube

Linkedin

Top Post Ad

Below Post Ad

Ads