Type Here to Get Search Results !

बिहार: 12 लाख से ज्यादा किसानों की बंद होगी पीएम सम्मान राशि! ये काम करने पर ही मिलेगी अगली किस्त

 बिहार के 12 से ज्यादा किसानों को पीएम सम्मान निधि की अगली किस्त नहीं मिलेगी। इसकी वजह उनके खाते का आधार और एनपीसीआई से लिंक नहीं होना है। यदि वे ऐसा कर लेते हैं तो उन्हें योजना का फैयदा मिलेगा।


राज्य के 12 लाख से अधिक किसानों को पीएम सम्मान योजना की किस्त नहीं मिलेगी। केंद्र सरकार ने एक अप्रैल से यह व्यवस्था लागू कर दी कि जिन किसानों का खाता आधार और नेशनल पेमेंट कॉरपोरेशन ऑफ इंडिया (एनपीसीआई) से लिंक नहीं होगा, उन्हें अब राशि का भुगतान नहीं किया जाएगा। राज्य में ऐसे किसानों की संख्या 12 लाख 29 हजार 800 है। इसके अलावा 94 हजार 799 किसानों के आवेदन और आधार के नाम में अंतर है। इन दोनों तरह के किसान अगर भुगतान से पहले इसे दुरुस्त नहीं करते हैं तो उनका भुगतान बंद हो जाएगा। किसानों की यह संख्या ई-केवाइसी के कारण वंचितों से अलग है।



राज्य के किसानों को पीएम किसान सम्मान योजना का भुगतान इसी महीने होने वाला है। ऐसे में किसानों के खाते की गड़बड़ी जल्द दूर हो जाए, इसके लिए कृषि विभाग ने अपने स्तर से प्रयास तेज कर दिया है। योजना के नोडल अधिकारी और संयुक्त कृषि निदेशक डीपी त्रिपाठी ने बताया कि जिन किसानों का यह मामला है, उनकी सूची जिले के अधिकारियों को भेज दी गई है। साथ ही, उनसे कहा गया है कि कृषि समन्वयक और सलाहकारों को लगाकर किसानों की समस्या का निराकरण जल्द करा दें, ताकि किसानों का भुगतान रुके नहीं। उन्होंने किसानों से भी अपील की है कि बैंक में जाकर आवेदन दें और अपने खाते को आधार के साथ एनपीसीआई से लिंक करा लें। यह काम बैंक के अधिकारी करेंगे, लेकिन आवेदन उन्हें देना होगा।


भुगतान अब आधार आधारित

नये वित्तीय वर्ष में प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि का भुगतान अब आधार आधरित ही होगा। इसी के साथ किसानों को अपने खाते को एनपीसीआई से भी जोड़ना होगा। यह काम तो बैंक करेंगे लेकिन इसके लिए किसानों को बैंक की शाखा में खुद जाकर अनुरोध करना होगा। यह नई व्यवस्था एक अप्रैल से पूरे देश में लागू हो गई।


ऐसे कर सकेंगे दुरुस्त

जिन किसानों के आधार व आवेदन के नाम में अंतर है, वह खुद मोबाइल से इसे दुरुस्त कर सकते हैं। पीएम किसान पोर्टल पर जाने के बाद अगर कहता है कि आधार वेरिफायड नहीं है तो समझ जाएं कि नाम में अंतर है। नाम हर हाल में दोनों जगह अंग्रेजी में हो। स्पेलिंग में भी अंतर नहीं होना चाहिए। इसके लिए पोर्टल पर प्रक्रिया शुरू करते ही कैप्चा आएगा, जिसे डाल नाम दुरुस्त कर सकते हैं।

Official Website

Click Here

"Tech Bettiah" ऑफिसियल वेबसाइट पर आपका बहुत-बहुत स्वागत है. हमारे Website पर तजा न्यूज़,न्यू टेक्नोलॉजी,सरकारी नौकरीएडमिट कार्डएडमिशन फॉर्मरिजल्टसरकारी योजनासभी टॉपिक्स पर अलग- अलग तरह की जानकारी पोस्ट किया जाता हैं,

सिर्फ आपको सुचना के लिए वेबसाइट बनाया गया है. बस आप हमलोगों को सपोर्ट करते रहिएसुपोर्ट के साथ-साथ Flow भी कीजिये

दोस्तो अगर हमलोगों का पोस्ट अच्छा लगे तो कमेन्ट करके जरुर बताए|

प्रिय पाठको अपने दोस्तों के साथ जरुर शेयर करना न भूले|

Join Telegram Channel

 



Top Post Ad

Below Post Ad

Ads